Solutions for Life (जीवन संजीवनी)

जीवन के प्रति समर्पित ब्लॉग

30 Posts

688 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 2732 postid : 74

मेरी खोज

Posted On: 15 Oct, 2010 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

….क्या है?
….जिसको मै खोज रहा,
….मुझको है,
….यह किसकी आस.
….वह कौन कमी है जीवन में,
….कर देती है दिल उदास.
….पाया है बहुत,
….इस जीवन में,
….फिर भी है जारी,
….क्यूँ तलाश.
….मेरे अन्तरंग,
….वह कौन अनजान,
….किससे चलती,
….यह मेरी श्वास.
….वह कौन,
….जो छेड़ रहा,
….मेरे अंतर्मन में नाद.
….वह कौन,
….जो बुझाये,
….मन की प्यास,
….कब होगा मिलन,
….उस सागर से,
….जो भर पाए,
….मुझ रीते को,
….कब तक रहना,
….मुझको तम में,
….कब होगा,
….मेरे घट भी प्रकाश.

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

8 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Piyush के द्वारा
October 20, 2010

कब होगा मिलन, ….उस सागर से, ….जो भर पाए, ….मुझ रीते को, बहुत गूढ़ बातों को सुन्दर शब्दों में व्यक्त किया है आपने… और आदरणीय विपिन जोशी जी ने सुन्दर व्याख्या की है..

    HIMANSHU BHATT के द्वारा
    October 21, 2010

    thks piyush ji for your valuable comments.

Vipin Joshi के द्वारा
October 20, 2010

सर जी…सभी मनुष्य कुछ न कुछ खोजते ही रहते है….भले ही हम कुछ भी पा ले परन्तु जीवन में एक अधूरापन रहता ही है….शायद ये अधूरापन उस तम के कारन है हम जिसको पाकर खुश हो जाते है……सच्चा प्रकाश तो तब हगा जब हम इल्म की शम्मा जलाकर कोने कोने को प्रकाशित कर पाएंगे……हिमांशु जी….सुंदर पंक्तियों हेतु बधाई…..

    HIMANSHU BHATT के द्वारा
    October 21, 2010

    thank you vipin ji for your valuable comment.

Akhilesh के द्वारा
October 17, 2010

Beautifully written. Look forward to see more out of you ; )

    HIMANSHU BHATT के द्वारा
    October 17, 2010

    THANKS I WILL TRY MY LEVEL BEST.

Alka r Gupta1 के द्वारा
October 15, 2010

िहमांशु जी कविता के भाव में आपकी खोज बहुत सटीक  लगी।बधाई हो।

    HIMANSHU BHATT के द्वारा
    October 17, 2010

    आपकी हौसला अफजाई के लिए बहुत बहुत धन्यवाद.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

  • No Posts Found

latest from jagran